top of page
Preet ke Moti - Dust Jacket

Preet ke Moti - Dust Jacket

SKU: DJAG151405
₹349.00Price
Sales Tax Included

 

यह पुस्तक कवि की भावनाओं और उनके परिवार में हर रिश्ते के प्रति उनके दृष्टिकोण के बारे में है। इन कविताओं की खूबसूरती यह है कि प्रत्येक व्यक्ति उन्हें अपने प्रियजनों के प्रति अपनी भावनाओं से जोड़ सकता है और उन्हें समर्पित करके उन्हें व्यक्त भी कर सकता है। यह हमें परिवार के सभी सदस्यों के बीच के बंधन को मजबूत करने और संयुक्त परिवार में आपसी प्रेम की अवधारणा को मजबूत करने में मदद करेगा। यह पुस्तक कवि की प्यारी माँ की याद में समर्पित है जिन्हें उन्होंने मार्च 2019 में खो दिया है जिसे आप इस पुस्तक की पहली कविता में महसूस कर सकते हैं । उसी पंक्ति में दादी माँ, पिता जी, बहन, भाई, शिक्षक और दोस्तों के लिए कविताएँ हैं । बच्चों के लिए कविताएँ (विशेष रूप से बेटियों के लिए) भी इस पुस्तक में आकर्षण का केंद्र हैं. अधिकांश कविताएँ उनकी पत्नी प्रीति को समर्पित हैं जिनके लिए कवि ने वास्तव में उन्हें लिखना शुरू किया था। यह एक रूढ़िवादी मानसिकता को भी तोड़ता है जहां हम केवल पत्नियों पर चुटकुले सुनाते है या पतियों के दमन के लिए उन्हें दोष देते है। पति-पत्नी वाहन के दो पहियों की तरह होते हैं जहां आपसी समझ अनिवार्य है और इसके लिए पति पत्नी में परस्पर प्रेम का सम्बन्ध हमेशा ही बना रहना चाहिए । इस पुस्तक में हमारे आस-पास की सामाजिक घटनाओं के बारे में कविताएँ और उनके बारे में कवि के दृष्टिकोण को हमारी सामाजिक जिम्मेदारियों के रूप में शामिल किया गया है। जीवन और जीवन में आने वाली कठिनाइयों के बारे में हमारे सकारात्मक नजरिये को भी दर्शाने की कोशिश की गई है । बहन दामिनी को श्रद्धांजलि और अफगानिस्तान पर तालिबान की हालिया क्रूरता पर विश्व शांति कामना कविता आपके मन की भावनाओं को छू ले ऐसी आशा करता हूं । आप विभिन्न कविताओं में आध्यात्मिक विषयों पर एक जुड़ाव भी महसूस कर सकते हैं। कवि ने कुछ कविताओं में अपनी आध्यात्मिक अवधारणाओं की समझ पर अपनी अंतर्दृष्टि देने का प्रयास किया है। इनमे आध्यात्मिक जीवन में जीवित गुरू की महत्वता, परमात्मा के विभिन्न रूप और ध्यान, समाधी में मन की भूमिका मुख्य रूप से सम्मिलित है ।

  • Author Name

    Pradip Malik
  • Terms and Conditions

    All items are non returnable and non refundable
  • Language

    Hindi
bottom of page